घरेलू हिंसा

क्या पति पत्नी और रिश्तेदार के खिलाफ घरेलू हिंसा अधिनियम का प्रयोग कर सकता है ?

घरेलू हिंसा अधिनियम का प्रयोग

कर्नाटक के उच्च न्यायालय ने कहा कि कोई भी व्यक्ति, चाहे वह महिला हो या पुरुष हो घरेलू हिंसा अधिनियम के प्रावधानों के उल्लंघन का आरोप लगाया गया, अधिनियम के तहत इस प्रावधानों को लागू कर सकता है। मोहम्मद ज़ाकिर जोकि बेंगलुरु में रहते थे इन्होने अपनी पत्नी और उसके रिश्तेदारों के खिलाफ याचिका दायर की थी। यह हमारे भारत में तलाक कानून के अनुसार होगा।

न्यायाधीश आनंद बायफ्रेंडली एडल में दायर याचिका पर सुनवाई कर रहे थे। सिटी सिविल कोर्ट, बैंगलोर। सिविल न्यायाधीश इससे बिल्कुल भी प्रभावित नहीं थे क्योंकि घरेलू हिंसा एक्ट केवल महिलाओं के पक्ष के लिए है ,ऐसा कही कोई उल्लेख नहीं किया गया है कि महिला के खिलाफ कोई पुरुष शिकायत दर्ज कर सकता है।

उच्च न्यायालय ने कहा कि इस बात पर ध्यान दिया जाना चाहिए कि उपर्युक्त मुद्दा शीर्ष न्यायालय के सामने अपील के अधीन था, जो हीरालाल पी हरसोरा बनाम कुसुम नरोत्तमदास हरसोरा के मामले में था, जिसमें उच्चतम न्यायालय ने धारा 2 (ए) के एक हिस्से को तोड़ दिया था। ) इस आधार पर कि यह इस संविधान के अनुच्छेद 14 का साफ साफ उल्लंघन है और धारा 2 (क्यू) में प्रदर्शित होने के रूप में “वयस्क पुरुष” वाक्य हटा दिया गया है।

“यदि अभिव्यक्ति वयस्क पुरुष’ को हटाने के बाद उक्त उपधारा को पढ़ा जाये तो , यह प्रतीत होगा कि अधिनियम के प्रावधानों का उल्लंघन करने वाले किसी भी व्यक्ति, चाहे वह महिला हो या पुरुष हो, अधिनियम के प्रावधानों का उल्लंघन और आरोपित उल्लंघन अधिनियम के तहत प्रावधानों को लागू कर सकता है।

अदालत का यह कहना था कि इस मामले में, याचिकाकर्ता की शिकायत को इस आधार पर खारिज नहीं कर सकते है कि यह अधिनियम पुरुषों के लिए प्रावधान पर विचार नहीं करता है और यह केवल महिलाओं के लिए ही हो सकता है।

Please follow and like us:

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *