घरेलू हिंसा

घरेलू हिंसा – रिया की कहानी कुछ यादें जो कभी फीकी नहीं पड़ीं.

घरेलू हिंसा, divorce, marriage रिया एक दयालु, संवेदनशील और आकर्षक लड़की थी। वह अपने परिवार से बहुत प्यार करती थी। उसके माता-पिता उसका बहुत ख्याल रखते थे। और उसको हमेशा करियर के प्रति प्रोत्साहित करते थे। उसने एक प्रतिष्ठित संस्थान से बायोटेक्नोलॉजी में ग्रेजुएशन किया था। उसने लेक्चरर के रूप में काम किया था और उसकी मदद करने की प्रवृत्ति के कारण हर कोई उसको पसंद करता था। रिया को Adventure बहुत पसंद था और उसके जीवन में बहुत सारी महत्वाकांक्षाएं थी। रिया को स्टोरी लिखने का बहुत शौक था, वह जब भी free होती थी तो कुछ न कुछ स्टोरी लिखती थी। वह घरेलू हिंसा और भी बहुत से Topic पर स्टोरी लिखती थी। वो आस पास की चीजों को Observe करती थी और उन पर कोई न कोई लेख लिखती थी। 

 

घरेलू हिंसा, divorce, court marriage

 

रिया पीएचडी करना चाहती थी, लेकिन उसकी शादी 26 साल की उम्र में हो गई थी। उसकी शादी अपूर्व से तमिलनाडु के एक छोटे से शहर में हुई थी। रिया की Arrange marriage हुई थी। वह अपनी शादी में बहुत ही सुन्दर लग रही थी। खूबसूरत लहंगे में बहुत ही मनमोहक लग रही थी। शादी में आये हुये सारे मेहमान की आँखें उस पर ही टिकी हुई थी। उसकी शादी बहुत ही भव्य रूप से हुए थी। बहुत सारे मेहमान और उसके सारे दोस्त भी उसकी शादी में आये थे। 

 

 

divorce, court marriage, lawyers

 

अपूर्व  मुंबई में एक IT company में marketing department में था। अपने परिवार का एकलौता बेटा होने की वजह से वह अपने माता पिता का बहुत ही ज्यादा चहीता था। उसकी हर एक बात मानी जाती थी। वह एक पुरुष अहंकारी व्यक्ति था। वह पैसे और प्रसिद्धि के आधार पर लोगों को महत्व देता था। शादी के बाद रिया अपने husband के पास मुंबई शिफ्ट हो गई थी। शुरुआत में सब कुछ ठीक चल रहा था और उसको मुंबई में अच्छा लगने लगा था। कुछ समय के बाद रिया ने एक बेबी गर्ल को जन्म दिया। रिया के परिवार वाले बहुत खुश थे पर उसकी ससुरवाले ज्यादा खुश नही थे, क्योंकि वह चाहते थे कि उनके बहु और बेटे का लड़का हो। 

 

divorce, marriage, lawyer, court marriage

दिन बीतते गये और अपूर्व के माता-पिता रिया को शारीरिक और मानसिक दोनों तरह से प्रताड़ित करने लगे। उन्होंने उसके साथ मारपीट और दुर्व्यवहार किया। रिया ने अपनी बेटी के लिए सब कुछ सहन किया,क्योंकि वह नहीं चाहती कि उसकी बेटी अपने डैड से अलग हो। अपूर्व की माँ रिया से कहती है कि वह उसके बेटे के लिए सक्षम नहीं है। यह बात सुन कर रिया को बहुत आघात पंहुचा और वह बहुत रोई। अपूर्व अपने जीवन में हमेशा अपने काम के साथ व्यस्त रहता था और रात में फुटबॉल मैच देखता था, यहां तक ​​कि वह रिया पर जरा भी ध्यान नही देता था। उस बड़े से घर में रिया अपने आप को अकेला महसूह करने लगी थी। परेशान होकर रिया ने अपूर्व से बात की, उसको अपनी परेशानी बताई, लेकिन अपूर्व ने उससे adjust करने का कहा। 

 

घरेलू हिंसा, divorce, marriageएक दिन, वह अपनी बच्ची के साथ उसके पिता के घर चली गई। उसके घर पहुंचते ही उसको परेशान देख कर उसके माता पिता ने उससे परेशान होने के वजह पूछी। रिया ने रोते हुये सारी बात कि वह घरेलू हिंसा की शिकार हुई है । सारी बात सुन कर उसके माता पिता हैरान रह गये कि उसकी बेटी के साथ दुर्व्यवहार हुआ। उन्होंने उसके ससुरालवालों से बात की। रिया के ससुराल वालों ने साफ़ साफ़ इंकार कर दिया कि उसके साथ किसी भी तरह का दुर्व्यवहार नही हुआ है। रिया ने अपने माता पिता को कहा कि वह अब कभी वापस अपने ससुराल मुंबई नही जाएगी। उसके माता पिता ने अपूर्व को बहुत समझाया पर अपूर्व ने अपनी एक गलती नही मानी। उसके बाद उन्होंने फैसला किया कि रिया divorce लेगी, उन्होंने इस बारे में अपनी बेटी से बात की। रिया ने भी इस बात में अपनी हामी भरी। 

 

divorce, marriage, lawyersउसने divorce और घरेलू हिंसा के लिए लॉयर सर्च किया। फिर उसने Aapka Advocate के बारे में पड़ा। फिर उसने उस पर Phone consultation के लिए  appointment ली। कुछ समय के बाद रिया के पास उनके Advocate का फोन आया। उन्होंने उसकी पूरी बात सुनी। सबसे पहले उन्होंने उसको समझौता करने के लिए advice किया। रिया समझौता करने के तैयार हो गई। उसके बाद उनके Advocate ने दोनों पक्षों की बात सुनी और नोटिस की Warning दे कर समझौता कराया। रिया ससुराल वापस गई, उसके ससुरालवालों ने उससे बोलना बंद कर दिया था। कोई उससे बात नही करता था, कुछ दिन तो रिया ने ये सब बर्दास्त किया पर जब ये बात उसकी बर्दाश्त से बहार हो गई तब उसने Aapka Advocate पर फिर से Phone consultation लिया और उनके लॉयर ने उनको Divorce का सही तरीका बताया। Divorce मिलने के बाद उसने अपने ससुरालवालों को सवक सिखाने के लिए पर घरेलू हिंसा का भी केस किया। 

घरेलू हिंसा, divorce, marriage

 

अब वह अपनी बेटी के साथ माता पिता के घर रह रही है। उसके माता-पिता उसे हमेशा लेखक बनने के लिए समर्थन और प्रोत्साहित करते थे। और वह आखिरकार एक लेखक बन गई। वह अपनी बच्ची की सभी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत कर रही है। जब वह मुंबई में अकेली थी, तो वह बहुत प्रार्थना करती थी और उसे विश्वास था कि एक दिन ज़रूर वह इन सब चीजों से दूर हो जाएगी। वह अपनी बेटी को अच्छे नैतिक मूल्यों और शिष्टाचार के साथ एक अच्छा जीवन देना चाहती है। रिया अपनी बेटी के सहारे जिंदगी जी रही है और उसे उम्मीद है कि भविष्य में उसकी बेटी उसकी देखभाल करेगी।

Please follow and like us:

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *