घरेलू हिंसा
बिना श्रेणी

काव्या ने घरेलू हिंसा के खिलाफ अपनी आवाज उठाने की हिम्मत दिखाई .

हमारे स्वतंत्र भारत में हर नागरिक को बदलाव करने के अधिकारों की स्वतंत्रता प्राप्त है। पर बदलाव वही व्यक्ति कर सकता है जिसके अंदर अपनों के खिलाफ लड़ने की हिम्मत हो, जो समाज को चुनौती दे सके। प्राचीन काल से चले आ रहे पुराने रूढ़िवादी नियमो एवं रिवाज़ों को अपने…